bhojpuri kavita Archive

Latest Posts

आदमी निमन बुरा मिल जाला

आदमी निमन बुरा मिल जाला     आदमी निमन बुरा मिल जाला जख़्म भरेला कभी छिल जाला   मन में खुशी अपार जब होला चेहरा फूल मतिन खिल जाला   गर केहू दिल से बद्दुआ देला धरती से आकाश ले हिल

दिल एतना जिन दुखावऽ की सहाए नाहीं

    दिल एतना जिन दुखावऽ की सहाए नाहीं         दिल एतना जिन दुखावऽ की सहाए नाहीं अब कांट ओतने चुभावऽ की बुझाए नाहीं   हमरा एकहगो रइसन से भेंट भइल बाटे जवन कबो खियावे नाहीें अउर खाए

हउ देखऽ  बहुरुपिया  नियन  भेख बनवले नेताजी

हउ देखऽ  बहुरुपिया  नियन  भेख बनवले नेताजी         हउ देखऽ  बहुरुपिया  नियन  भेख बनवले नेताजी जनता के  पइसा खाके  उजर फेस बनवले नेताजी   योजना कागज में पूरा भइल, कवनो काम न भइल घोटाला की पूंजी से किस्मत

खाली हर घड़ी प्यार के वादा भइल

खाली हर घड़ी प्यार के वादा भइल           खाली हर घड़ी प्यार के वादा भइल बस इहे औकात से जियादा भइल   बिना करनी के ख्वाब सच नाहीं होई पांव  नाहीं बढ़ल  बस इरादा भइल   बाप
error: Content is protected !!