bhojpuri kavita Archive

Latest Posts

बेलगाम घोड़ा ह इख्तियार

बेलगाम घोड़ा ह इख्तियार में ना आवे

        बेलगाम घोड़ा ह इख्तियार में ना आवे इहाँ केहू के जवानी संभार में ना आवे   अब त संबंध के कीमत तय हो गइल एह दुनिया में कुछउ उधार में ना आवे   देहीं से देंह के
समय एतना बरियार होला

समय एतना बरियार होला

        समय एतना बरियार होला       समय एतना बरियार होला जेकरा आगे सबके हार होला   ई त सबके झुका देला मगर हाथ में ना कोई तलवार होला   का जानवर का आदमी का परिंदा भटक
उनकर रोआइ हमार करेजा पीरा देला

उनकर रोआइ हमार करेजा पीरा देला

            उनकर रोआइ हमार करेजा पीरा देला         उनकर रोआइ हमार करेजा पीरा देला बाकिर हँसी उनकर चेहरा खिला देला   रात भर जगावे तनिका करार ना आवे याद जब आवेला त हलचल
करेजा के टुकड़ा एह  तरे  हो गइल

करेजा के टुकड़ा एह  तरे  हो गइल

            करेजा के टुकड़ा एह  तरे  हो गइल       करेजा के टुकड़ा एह  तरे  हो गइल कि हमरा इश्क़ से भरोसा उठ गइल   ओइसे ख़त में उनका झूठ के पुलिंदा घर के आलमारी
error: Content is protected !!